Hindi Love Shayari 2020

हर पल ये दिल तेरे नाम की माला जपता है और देख लू को तुझे दिल मचल पड़ता है और कैसी दीवानगी बताऊ ऐ सनम तुझे ये हाथ भी तेरे हाथ को थामने के लिए तड़पता है

 

तुम्हे कमर से पकडूँगा और सीने से लगा लूंगा
तुम्हे अपने दिल की हर बात बता दूंगा
घबराना मत मुझपे भरोसा रखना एक ना एक दिन तुम्हे मैं अपना बना लूंगा

तुम्हे कमर से पकडूँगा और सीने से लगा लूंगा तुम्हे अपने दिल की हर बात बता दूंगा घबराना मत मुझपे भरोसा रखना एक ना एक दिन तुम्हे मैं अपना बना लूंगा

तुम्हारे लिए मैने खुद को बदल लिया
तुम्हारी पसंद को मैं अपनी पसंद बना लिया
फिर क्या कमी रह गयी मेरे प्यार में
जो तुमने मुझे छोड़ने का मन बना लिया
और अगर छोड़ना ही था लब्जो में बोल देते ….
अगर छोड़ना ही था लब्जो में बोल देते यू इस कदर मेरे दुश्मन से हाथ मिला लिया

ऐ दुश्मन तेरा सुक्रिया जो तूने मुझे छुपे अपने गैरो से मिला दिया
और हम तो प्यार करके हिंरो बनने चले थे
उस बेवफा ने दिल तोड़ कर विलन बना दिया

की मेरा दिल तोड़ कर चली गयी एक दिन तेरा भी दिल तोड़ कर जाएगी और ना जाने वो कहाँ कहाँ जाएगी करलो कोई बेवफाई की प्रतियोगिता मा कसम मेरी वाली No.1 आएगी

की मुझे बर्बाद करने में तेरा हाथ है और खुद को कामयाब करने के लिए सीने में आ गए ऐ बेवफा तुझे बताना भी तो है वो कल था ये आज है

की मैं समझता था कि सच्चा प्यार लब्जो में नही आंखों दिखता है धोखे बाजो का जमाना है जनाब बच के रहिएगा यहां सच्चा प्यार भी पैसों में बिकता है

Bewfai Love shayari

की बार बार मुझे अपना कह कर …

बार बार मुझे अपना कह कर झूठे प्यार को सच मे बदल कर दिखलाती हो और तवज्जों की बात ये हो गयी प्यार मुझसे करती हो साथ किसी और का निभाती हो

की मेरी मोहब्बत की हेरा फेरी हो गई
मेरी मोहब्बत की हेरा फेरी हो गई….
कल तक मेरी थी आज तेरी हो गयी

Dosti Love shayari hindi

ऐ दोस्त तू क्यों उदास है
किसी लड़की ने धोखा दिया तो बता
दूसरी पटवा देंगे
किसी से लड़ाई हुई नाम बता
घर से उठवा देंगे

Hindi Dard shayari

दर्द है इस दिल मे बता नही सकता
इसलिए शायरी का सहारा लिया मैने
ऐ सनम तू क्यू घबराती हो
तुम्हे बदनाम नही करूँगा
पूरी शायरी में तुम्हारा जिक्र नही किया मैंने

तुम पैसों में खरीदना चाहते हो..
मैं बाह्यबाही में बिक जाता हूँ
मैं शायर हूँ जनाब हर किसी का दर्द सुनाता हूँ

जरा सी बात क्या बोली मैने लोग मेरी गलती गिनाने लगे जरा सा लड़ क्या लिया अपनो से अपने भी गैर बताने लगे

हिंदी में लव शायरी

मोहब्बत की बात जहाँ जहाँ आती है
की मोहब्बत की बात जहाँ जहाँ आती है
तेरी कसम तेरी याद आती है
और बुलाने की कोसिस बहोत करता हूँ
पर हर रोज तेरी याद आती है

चार दिन की मोहब्बत के बाद हम बिस्तर होने की फरमाइस होती है
मोहब्बत में जिस्म की नुमाइश होती है
और बहोत ही बेवफा हो गए है लोग
हर चौथे दिन नई मोहब्बत होती है

दीवाना था नही दीवाना बनाया गया है की दीवाना था नही दीवाना बनाया गया है आंखों से तीर चलाया गया है और ना कसूर इसका ना कसूर उसकी आँखों का आज आंखों में काजल लगाया गया है

मुझे मुसीबत नही उन लोगो से जो मेरा मजाक बनाते है
की मुझे मुसीबत नही उन लोगो से जो मेरा मजाक बनाते है ..
मुझे बहोत अच्छा लगता है जब लोग मुझे पागल बताते है

वफा की बांते करने दो उन्हें हम बेवफा ही अच्छे है
मनाना गिड़गिड़ाना रकीब के लिए रखो हम खफा ही अच्छे है

बस में होता तो तुझे जाने ही ना देता शबे हिज्र कभी आने ही ना देता पता ही होता मुझे अंजाम जो तो खुद का ही घर जलाने ना देता

[su_box title=”Shayari” style=”soft” box_color=”#3bec1a”]मैं कुछ कहूं तो तुम मानते ही नही हो जख्म भारत हूँ मैं भी तुम जानते नही हो मालूम है धोखे मीले है पिछले प्यार में तुझको मेरी वफा तो जानते हो मगर तुम मानते नही हो[/su_box]

मैं खोया खोया सा था कही तू मंजिल की तरह आयी है ।
मैं खोया खोया सा था कही तू मंजिल की तरह आयी है..
मैं सारे सेर अधूरा छोड़ देता था तू मुकम्मल gazal की तरह आयी है

shayari

Mohbbat hindi shayari

खुशबू बदन की यू उड़ाने में लगा है…
खुशबू बदन की यू उड़ाने में लगा है मिलते ही सर्मा के नजर यू झुकाने में लगा है
और खुद से खुद में कभी मिले नही हम
जामाना हमको हमारी तस्वीर समझाने में लगा है
और छोड़ना भी चाहता है और कहेना भी नही
इसी लिए वो सब्र हमारा आजमाने में लगा है
और उसके दिल का है कुछ समझ नही आता हमे छोड़ बाकी सारे जमाने मे लगा है

रकीब बड़े गुमान में है कि बाप को
बाप बनने की तरकीब सीखाने में लगा है
की बाप बनने की तरकीब सीखाने में लगा है और इश्क़ का ये कैसा दौर आ गया है खुदा जाने
पहले ही मुलाकात से मजनू सेज सजाने में लगा है

और अब तो बिना बात किये रुठने का मन करता है उससे
जबसे वो सख्स चाय बनाकर हमे मनाने में लगा है
और अभी तो रोशन हुआ भी नही है कौशिक
की काफिला हमे अभी से बुझाने में लगा है

तेरे साथ से मोहब्बत का इक बीज बोना है
हिफाजत से रखना दिल है । ना की कोई खिलौना है
और जमाने की नापाक नजरो से बचा कर रखूंगा
तेरे नाम का मेरे दिल मे इक कोना है
और इकरारे मोहब्बत का ये ऐलान करती है
की तेरे साथ मुझे बूढ़ा होना है

और मसर्रत (खुसी) दुगुनी हो जाये तेरे साथ बॉटने से
उदासी में तेरे साने (कंधे) पर सरक के रोना है
जब कौसिक पोती पोतियों को कहानिया सुनाएगा
तुम्हे उसमे एक अहेम किरदार को संजोना है

फजा मध्यम बहने लगी गुल खिलाने लगे
किसी अफसरा के जन्नत सा उसका दरस रहा है
और एक खेत सुखा है कतराए बूंद भी नही
इक लबा लब भरा है पानी वही बरस रहा है
किसी के लिए इश्क़ भी खुशनुमा रहा होगा
हमारे बदन में तो घुलता चर-स रहा है
और ऐसी जन्नत सा भरा देखना भला नर्क ही बेहतर होगा
दूध नाली में है और सवाली पीने को तरस रहा है


Virendra Kumar

Hii . Friends - My Name Is Virendra Kumar .I am a poet|YouTuber|Blogger.

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *