Pyar mohabbat shayari hindi me  – 

Hindi love shayari status,new love short shayari ,image love shayari 2020,new shayari ,shayari sms , pyar mohabbat shayari hindi new sms ,sms status shayari,pyar mohabbat shayari status,

 

जब पुकारना हो मुझे वो मेरा नाम भूल जाता है
उसे इश्क तो आता है पर इश्क करना भूल जाता है
और उसे कह दो यू मुस्कुरा कर ना देखे मुझे
ये दिल पागल है धड़कना भूल जाता है

तूने रिश्ता तोड़ा है मजबूरी होगा मैं मानता हूं
मुझे तो निभाने दे मैं तुझसे भला क्या मांगता हूं
और दर्द में देख कर तू मुझे मुस्कुरा रही है
मैं कितना पागल हूं कि तू हँसती रहे यही दुआ मांगता हूं

खुद से ही खुद को बदनाम करते है ।।
खुद से ही खुद को बदनाम करते है चलो उनका काम आसान करते है
और चुभने लगी है ये धड़कनो की आहटें मुझको
चलो इन्हें रोकने का इंतजाम करते है
और करके यू बे इंतहा यू जुल्म मुझपर कहती चलो आज तुम्हे माफ करते है
और धूल जमी थी खुद के चेहरे पर ।।
कहेती चलो आईना साफ करते हैं

की वक्त जाया ना कर मेरे  किरदार को पहचानने में
तू खुद एक कहानी बन जायेगा मेरे हकीकत जानने में
और चल दिये बेपरवाह देखने गहराई मेरे दिल की
इतना गहरा हूं कि जमाना निगल जाएगा मेरी गहराई नापने में

Hindi me Pyar mohabbat shayari sms 

pyar mohabbat shayari hindi

की गिराले अपने नजरो से मुझे कितना ही
झुकने पर मजबूर मैं तुझे भी कर दूंगा और एक बार बदनाम करके तो देख मुझे महफ़िल में
कसम से शहर में मशहूर मै तुझे भी कर दूंगा

उसके जजबात मेरे हिचकियो से यू कहने लगे है
की अभी वक्त लगेगा तुम्हारी याद आने में
आजकल वो शूर्खियो में रहने लगी ।।

जिसने मुह मोड़ लिया हमसे
अब उसके दर पर क्या रखा है
मैं खुश हूं अपने आज में जनाब
अब उस कल में क्या रखा है

ये शहर क्यों मदहोश हुआ जा रहा है
ये हवाओ में रंगत क्यों बिखरी हुई है
ये कोई खेल नही है मौशम का, जनाब वो अपने बाल खोलकर निकली हुई है घर से ।।

ये क्या हुआ कि हमारा दिल हमारा नही लगता
एक आप के चेहरे से सुंदर कोई नजारा नही लागत ।।
और उस चाँद को बहुत गुरुर था खुद पर हमने आप की तस्वीर दिखा दिया अब वो खुद को ही प्यारा नही लगता ।।

ये कौन है इतना खूबसूरत , ये नजारा कैसा है ।।
की मेहताब जहेन में सोच रहा है की मैं फलक पे हूं इस समय ये जमीन पर उजाला कैसा है

New pyar mohabbat shayari status

pyar shayari sms

अल्फाजो का खुराक बनाकर पिये हैं
हर शाम में तेरा नाम मिलाकर पिए हैं
मत इतना बेगैरत कर मुझे खुद से अलग करने में
तेरे याद में सल्फाश को जाम में मिलाकर पिएं है ।।

तुम्हारी सुर्ख आंखों को कयामत मैं समझता हूं
तुम्हारी हर इजाजत को इबादत मैं समझता हूं ।।
तुम्हारी बात अधूरी है बखूबी मैं समझता हूं
तुम्हारा साथ जरूरी है बखूबी मैं समझता हूं

तुम्हारी राँहे ताकत हूं तुम्ही से आँहें भरता हूं
तुम्हारी याद में जीने को सदाकत मैं समझता हूं
कभी ना थी मेरी किस्मत किसी कि वो जरूरत है
उसी को जान छिड़कने को मोहब्बत मैं समझता हूं

अनजान हूं मै इस शहर से बताओ कोई रास्ता है क्या
की मैं अनजान हूं इस शहर से बताओ कोई रास्ता है क्या ।।
पेट दर्द , सिर दर्द , बुखार सबका इलाज है है
बताओ इश्क का इलाज है क्या ।।

गमो की सुई कुछ इस तरह चुभ रही है मेरे सीने में
की अब तकलीफ हो रही है मुझे जीने में
जाओ और उसे जा कर कह दो
की अब जरूरत नही मुझे उसकी मेरे पास मेरी शराब है लगाने के लिए मेरे सीने से ।।

अरे जा अब तू बन किसी का भी
अरे जा तू बन किसी का भी अबे तेरा जिक्र तक नही करेंगे
जब भी याद आएंगे तेरे बेवफाई के किस्से
तो तेरे ऊपर एक शायरी लिखेंगे और तेरा फिक्र तक नही करेंगे ।।

pyar mohabbat shayari

रात हो गयी मैं सुबह का इंतजार कल फिर करुँगा ।।
प्यार एक तरफ़ा है तो क्या हुआ
तुम दिल किससे लगाना मैं तुम्हारा इंतजार जिंदगी भर करूँगा  ।।

मुझे पता है कि प्यार करना सौख है तुम्हारा ।।
ये सौख हमारे साथ भी पूरा कर लो
जख्म तो भर नही सकते तो जख्म पूरा होने का ही काम कर दो ।।

परिंदे इतना ऊंचा उड़ गए मैने देख नही पा रहा
ये रिस्ते टूटते टूटते बिखर गए मैने समेट नही पा रहा
चारो ओर बस धुंआ है इसलिए मैं आसमा नही देख पा रहा
लहरो का कोई कसूर नही मुखे डुबाने का ये तो मैं ही हूं जो नाव सम्भाल नही पा रहा

मैं वो चिराग नही जो हवा से डर जाऊ
मैं वो राही नही जो रास्ता भटक जाऊ
है दर्दो की बौछार तो चल रही
लेकिन मैं वो आइना नही जो टूट कर बिखर जाउ ।।

भरोसे शब्द से ही अब नफरत सी होने लगी
उसकी अब किसी और को चाहने लगी
मुझे भिगाने के लिए बे मौसम बरसात होने लगी
छोड़ेगी ना कभी कमबख्त इतने कसम मेरी ही खाई थी
अब पता चला की अचानक मेरी तबीयत खराब क्यों होने लगी ।।

अब तो हर कोई दिल तोड़ता जा रहा है
चोर चोरी छुपे नही दीवार तोड़ अंदर आ रहा है
दिल का दर्द और आंखों का पानी बढ़ता जा रहा है
वो सख्स खुद को वफादार बता रहा है लेकिन मैं क्या करूं
मुझे तो हर कोई बेईमान नजर आ रहा है ।।

अब मैं रोने वाला हूं खुदा ने ऐसा मुझे ख्वाब दिखा दिया था उसके और मेरे बारे में सबको मैंने बता दिया था
चलो शुक्र है कि मुझे कहि और से खबर नही मिली
अब कोई और पसंद है उसने मुझे खुद बता दिया था ।।

मुझे झूमा दे इस कदर तुझमें नशा नही
इश्क के मंजर में हर जगह वफा नही
मोहब्बत की मर्ज की जहाँ में दवा नही
और तेरे सामने झुका दे सर हम अरे जा तू खुदा नही

आग के पास जाना नही जल के खाक हो सकते हो
हद से ज्यादा शराब अच्छी नहीं बीमार हो सकते हो
और गलती से इश्क के चक्कर मे फसना नही ।।
ना तो यार बर्बाद हो सकते हो

Shayari

Love pyar mohabbat shayari hindi


Virendra Kumar

Hii . Friends - My Name Is Virendra Kumar .I am a poet|YouTuber|Blogger.

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *