Poems on engineers student in hindi 

Hindi love engineer poems ,poems on engineer,new poems for engineer life ,poem for engineers,poetry for engineering student

की किसकी हिमाकत ..
किसकी हिमाकत जो हमारा कांटे अरे हम अपना खुद कटवाते हैं
और हम engineer हैं भईया हम प्लेससमेन्ट नही करवाते हैं

और कोई पूछे हमसे की क्या करते हो आज कल अरे बेरोजगार है बड़े सौख से बताते हैं
और इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर्स
शॉट सर्किट से सिगरेट कैसे जलानी है साले सब को बताते हैं
अरे हम engineer है भईया हम अपना खुद कटवाते हैं

poem for engineers

poem for engineers

मकैनिकल इंजीनियर्स अपनी मसिनो को दुल्हन की तरह खूब सजाते हैं
और दुल्हनिया कोई लड़की नाम की चीज तो होती नही इनकी जिंदगी में
देखा नही किसी हसीन को
मिलो दूर से की उसकी जुल्फों की छांवो में बिस्तर डाल के सो जाते है
और हम engineer है भईया हम अपना खुद कटवाते हैं

मकैनिकल आँटो वाले अपने गाड़ियो के प्रति विशेष प्रेम दर्शाते हैं
कैरोसिन से धो धो कर अच्छे से चमकाते हैं
और हम इंजीनियर है भईया हम अपना खुद कटवाते हैं

की कम्प्यूटर साइंस वाले पूरी तरह डिपेंडेड है इलेक्ट्रिकल वालो पे ।।
भईया बीजली हमे भी देदो का नारा दिन भर लगाते हैं
और हम इंजीनियर है भईया हम अपना खुद कटवाते हैं

सिविल वाले पूरी बिल्डिंग मजबूत मगर नीव कमजोर बनाते हैं
और इंजीनियरिंग में सबसे बड़ा झमेला होता है ड्राविंग का
साले सारे के सारे झमेले इनकी जिंदगी में लिखे जाते हैं
और हम engineer है भईया हम अपना खुद कटवाते हैं

Poem on engineer in hindi

इश्क करते हैं हम बेशक मगर किसी की यादे में अश्क नही बहाते है
और तेरी क्या औकात बेबी जो तू हमारा काटे अरे हम अपना खुद कटवाते हैं
और हम वो हैं जो एक रात में पढ़ कर इंजीनियरिंग क्लियर कर जाते हैं
और हम अपना खुद कटवाते हैं
किसकी हिमाकत जो हमारा कांटे अरे हम अपना खुद कटवाते हैं
और हम engineer हैं भईया हम प्लेसमेंट नही करवाते हैं

मकैनिकल इंजीनियर लड़कियो से थोड़ा दूर रहते हैं
हमारे भाई साहब तो गेयर एंड पिस्टन वालो बेस पे ही अपनी पूरी जिंदगी बिताते हैं
और स्वैग देखो भाई का अगर साथ माचिस ना हो तो वेल्डिंग टॉस से सिगरेट कैसी जलानी है साले सब बताते हैं
और हम engineer है भाईया अपना खुद कटवाते हैं

इलेक्ट्रिकल वाले गर्ल के थोड़ा क्लोज पाए जाते हैं (क्योंकि440 वोल्ट का करेंट यही से तो लो होता है )
वैसे देखा नही किसी हसीन को किनके बदन में 440 वॉट के झटके दौड़ जाते हैं
और हम engineer है भाईया हम अपना खुद कटवाते हैं

की केमिकल इंजीनियर बेचारो के माइंड में हर समय केमिकल रिएक्शन चलती रहती है
तभी तो बेचारे बाबू , सोना वाले चक्कर मे पड़ जाते हैं
और हम engineer है भाइया अपना खुद कटवाते हैं

और मैट्रोलॉजी इंजीनियर्स
मैट्रोलॉजी इंजीनियर्स मेजरमेंट में ऐक्सपर्ट होते हैं
तभी तो भैया नाप तोल कर इश्क फरमाते है हम इंजीनियर हैं भैया हम अपना खुद कटवाते है

की अगर बंक मारने की बात हो तो सीनियर बखुबी अपना फर्ज निभाते हैं।।
खुद तो बंक मारते है साथ मे जूनियर को भी ले जाते है
और हमारे बड़े भइया इतने ऑनेस्ट है ना कि क्लास रूम से ज्यादा वक्त Pubg खेलने और कॉलेज केन्टीन में बिताते हैं
हम engineer है भैया हम अपना खुद कटवाते हैं

की इंजीनियर ओनली सकल से कॅप्टल से नजर आते हैं
वर्ना पूरे की पूरे टैलेंट की खान है हल्के में मत ले लियो भईया इंजीनियरिंग को क्युकी ज्यादा तर जीनियस इंजीनियरिंग फील्ड में ही पाए जाते हैं
और हम engineer है भईया हम अपना खुद कटवाते हैं

Hindi love poem 

की कुछ यूं इश्क़ हुआ उनसे
कुछ यूं इश्क़ हुआ उनसे हम उनके कदमो में दिल बिछा बैठे
वो भी नादान निकले जरा से अपना ही घर जला बैठे

की उवे जो रुकस्ते जिंदगी से
तो जिंदगी वीरान हो गयी उजड़ा कोई शहर जैसे
जमीन में मानों मंजरे कब्रिस्तान हो गयी

मेरा पहला इश्क थी शराब दूजा इश्क भी शराब है
मैखानो से यारी अपनी लोग कहने लगे अरे लड़का जरा सी खराब है
की लोग कहने लगे है कि लड़का जरा सा खराब है
और सुनो ये अपनी हुस्न का गुरुर किसी और को दिखाना तुम्हारे हुस्न का मेरी शराब ही जवाब है

Poem for engineers

जाम छीन मेरे होठों से तू लबो का जाम पिलाती है …
जाम छीन मेरे होठों से तू लबो का जाम पिलाती है देख तेरा हुस्न पिघल जाऊ मैं
जाना ऐसी खयाली पुलाव क्यों पकाती है
इश्क सच्चा मेरा है तुम दूर रहो मुझसे जरा
जाना तुम्हारे बदन की गर्मी मेरे बदन को जलाती है

की छुलू अगर राह तो उसे मुकाम कर दूंगा
अच्छा तो तुम्हे गुरुर है ना अपने उगते हुए सूरज पे
चलो उसे भी ढलते शाम कर दूंगा
और क्या कहा मेरे करीब आना है तुम्हे
जाना दूर रहो मुझसे वर्ना बदनाम कर दूंगा ।।

Poem on engineering collage student life in hindi


Virendra Kumar

Hii . Friends - My Name Is Virendra Kumar .I am a poet|YouTuber|Blogger.

1 Comment

कौशिक · May 27, 2020 at 3:36 pm

बोहोत ही बढ़िया Poetry।आपने बोहोत ही अच्छा लिखा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *