Ansh pandit Shayari latest collection

मेरे बिना क्या अपनी जिंदगी गुजार लोगे तुम
मेरे बिना क्या अपनी जिंदगी गुजार लोगे तुम
अरे इश्क हु मैं इश्क
बुखार नही जो दवा से उतार लोगे तुम


रूठ लो जितना रूठना है Mai आखिरी सांस तक मनाऊंगा
की रूठ लो जितना रूठना है Mai आखिरी सांस तक मनाऊंगा
पर जिस दिन मैं रूठ गया वापस कभी लौटकर Naa आऊंगा


मुश्किलों में इनकार और खुशियों में Pyar करतें हैं
की मुश्किलों में इनकार और खुशियों में Pyar करतें हैं
जनाब अब तो Log रिश्तों में कारोबार करतें हैं


जरा सी बात पर दिल तोड़ देते हो
की जरा सी बात पर दिल तोड़ देते हो जब चाहा तब बात किया
जब चाहा तब छोड़ देते हो


ना मिले किसी का साथ To हमें याद करना
तन्हाई महसूस हो To हमें याद करना
खुशियां बॉटने के लिए Dost हजार रखना
जब गम बांटना हो तो हमें याद करना ।।


आंखों के पर्दे नम हो गए
बातों के सील सिले गम हो गए पता नही गलती किसकी है
की पता नही गलती किसकी है वक्त बुरा है या बुरे हम हो गए


रास्ते मे तन्हा छोड़ तो ना दोगे वादे कस्मे तोड़ तो ना दोगे
और डाल कर अपनी आदत मुझे
की डाल कर अपनी आदत मुझे हमसे मुँह मोड़ तो ना लोगे


कितने चेहरे हैं इस दुनिया मे मगर हमें एक ही चेहरा नजर आता है
दुनिया को हम क्या देखें
अरे दुनिया को हम क्या देखें उसकी यादों में सारा वक्त गुजर जाता है


रोज तेरा इंतजार होता Hai रोज ये दिल बेकरार होता है
कास तुम समझ पाते Ki
की कास तुम समझ पाते Ki चुप रहनें वालों को भी किसी से प्यार होता है


वादा करतें हैं कि दोस्ती निभाएंगे कोशिश यही रहेगी कि तुझे ना सतायेंगे
जरूरत पड़ी ना तो दिल से याद करना मेरे भाई
मर भी रहें होंगे ना तो मोहलत लेकर आएंगे

 


जिंदगी हमेशा कुछ नया दिखाएगी कभी हँसायेगी तो कभी रुलायेगी
इसपर भरोशा मत करना यारो
की इसपर भरोशा मत करना यारो
ये जिंदगी किसी मोड़ पर भी अकेला छोड़ जाएगी


लड़को के आँशु कभी झूठे नही होते

उन्हें भी प्यार की जरूरत होती है

हर लड़के जिस्म के भूखे नही


वफा का दरिया कभी रुकता नही है
इश्क में आशिक कभी झुकता नही है
खामोश हैं किसी के खुसी के लिए
वर्ना ये ना सोचो कि हमारा दिल दुखता नही है


तूने तो कह दिया उसे बेवफा और बाजारू
मगर उसे बेटी होने का फर्ज भी निभाना था
माना साथ चलने की कसम खायी थी उसने
मगर चलना तो माँ बाप ने सिखाया था


हमने भी किसी से प्यार किया था
हाथों में फूल लेकर हमने भी किसी का इंतजार किया था
भूल उनकी नही भूल तो हमारी है
अरे प्यार उन्होंन थोड़ी
प्यार तो हमने किया था


दूरिया तो बहोत पर इतना समझ लो कि पास रहकर भी कोई रिश्ता खास नही होता
तुम दिल के पास इतने हो ,,
तुम दिल के पास इतने हो
की दूरियों का एहसास नही होता


उसके चेहरे पर कुछ इसकदर नूर है कि उसकी यादों में रोना भी मंजूर है
यार बेवफा भी नही कह सकते उसको
क्योंकी प्यार तो हमने किया था
ओ बेचारी तो बेकसूर है


मेरे दिल का दर्द किसने देखा है
मुझे बस खुदा ने तड़पते देखा है
हम तन्हाई में बैठकर रोते हैं
लोंगो ने महफ़िलो मुझे हँसते हुए देखा है


तेरे नाम की पतंग हमने भी खूब उड़ाई है
अपने घर से लेकर तेरे छत तक पहोचाई है
हमे इश्क था तब बड़ा रंगीन दौर निकला
पतंग हमने उड़ाई सम्भालने वाला कोई और निकला


यकीन करो कि यकीन नहो होता
इश्क हुआ लेकिन इश्क पर तसलिल नही होता
एक नही कई शख्स बदलकर देख लिए
जो तुझसे हुआ तो किसी और से नही होता


प्यार तूने भी किया प्यार मैने भी किया …
प्यार तूने भी किया प्यार मैने भी किया
बस फर्क सिर्फ इतना था तेरे झूठ पर विश्वास था मुझे
और मेरे सच पर भी ऐतराज था तुझे


 

 

Ansh pandit shayari new shayari 

बिन देखे मैं तुझसे प्यार कर बैठा
बस यही एक गुनाह मैं एक बार कर बैठा
मिलना तो तुझसे मुक्कदर में मंजूर ना था
ये सब जानते हुए भी मैं मोहब्बत तुझसे बेसुमार कर बैठा


हर बार हम पर इल्जाम लगा देते हो मोहब्बत का
हर बार हम पर इल्जाम लगा देते हो मोहब्बत का कभी खुद से पूछा है इतनी खूबसूरत क्यो हो


देखकर हमको ओ सर झुकाते हैं
बुलाके महेफिल में नजरे चुराते हैं
नफरत है हमसे तो भी कोई बात नही
पर गैरो से मिलकर दिल क्यू जलाते हैं


की सताने की जरूरत क्या थी
अरे मुझे जलाने की जरूरत क्या थी
अरे इश्क मुझसे नही था तो कह दिया होता
अरे इश्क मुझसे नही था तो कह दिया होता इसे मजाक बनाने की जरूरत क्या थी


उदास हु तुझसे पर नाराज नही
दिल में हूँ तेरे पर तेरे पास नही
झूठ कहूँ तो सबकुछ है मेरे पास सच कहूं तो तेरे सिवा कोई खास नही


जानकर ओ मुझे कभी जान ना पाए
आजतक ओ मुझे पहेचान नही पाएं
इसलियें खुद ही कर ली बेवफाई मैने
ताकि उनपर कोई इल्जाम ना आये


तुम्हारा अचानक से फोन रख देना मुझे तकलीफ देता है …
तुम्हारा अचानक से फोन रख देना मुझे तकलीफ देता है अच्छ सच बताना क्या दिल मे कोई और रहता है


जिसमे तू नही ओ तमन्ना मेरी अधूरी है
और जिसमे तू मिल जाये जिंदगी मेरी पूरी है तेरे साथ जुड़ी हैं सारी खुशियाँ
बाकी हँसना सबके साथ तो मेरी मजबूरी है


कौन कहता है मोहब्बत बर्बाद करती है
अरे निभाने वाला मिल जाये तो दुनिया याद करती है


हाँ ये सच है कि मैं तुमपे सक करता हूं
क्युकी मैं तुम्हे खोने से डरता हूँ
कास समझ पाता तू मेरे दिल के जजबातो को
की मैं तुमसे कितना प्यार करता हूं


सोचा था इसकदर उनको भूल जाएंगे
देखकर भी अनदेखा कर जाएंगे
मगर जब सामने आया उनका चेहरा
सोचा इस बार देखले  अगली बार से भूल जाएंगे


ना मिले किसी का साथ तो हमें करना
तन्हाई महसूस हो तो हमे याद करना
खुशियां बॉटने के लिए दोस्त हजार रखना
जब गम बाटना हो तो हमें याद करना


फना करदो अपनी सारी जिंदगी अपने माँ के कदमो में दोस्तों
क्योंकि ये ओ मोहब्बत है जहाँ बेवफाई नही मिलती

Ansh pandit shayari 


Virendra Kumar

Hii . Friends - My Name Is Virendra Kumar .I am a poet|YouTuber|Blogger.

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *